दोस्तों समाज में बहुत सारी महिलायें ऐसी होती हैं,जो बहुत अच्छी होती है,हमेशा अपनी इज्ज़,त का ख्याल रखती हैं, और अपने घर परिवार पर ध्यान देती हैं,ऐसी महिलायें बहुत अच्छी मानी जाती हैं,वहीँ कुछ महिलायें ऐसी भी होती हैं, जो गलत रास्ते पर चल पड़ती हैं,और यह खुद तो बर्बाद होती ही हैं और समाज को भी ब,र्बाद करती हैं.

दोस्तों चाणक्य निति में दुनिया के बारे में कई बातें बताई गई हैं जिन्हें आज लोग सही मानते हैं,ऐसे ही चाणक्य ने महिलाओं के बारे में भी बहुत सारी बातें बताई हैं.उन्हीं में से यह भी है कि आखिर ग,लत महिलाओं को कैसे पहचाना जाए।ताकि उन से समाज को बचाया जा सके.

दोस्तों ऐसे तो हम सभी जानते हैं कि महिलाओं के अन्दर कोमलता ममता कू,ट कू,ट कर भरे हुए हैं.लेकिन महिलाओं को बचपन से ही यह ज़िम्मेदारी सौंप दी जाती है कि चाहे जो कुछ भी हो जाए,लेकिन परिवार की इज्ज़त पर आंच नहीं चाहिए.

महिलायें अपनी परिवार की इ,ज्ज़त बचाने का काम करती हैं. लेकिन सभी महिलायें एक तरह की नहीं होती हैं.कुछ महिलायें ऐसी भी होती हैं जो ऐसे काम करती हैं जो उनके विनाश का कारण बनती हैं.

और ऐसी महिलाओं को पहचानने के लिए चाणक्य जी ने कुछ बातें बताई हैं,उन्हें समझने के ज़रुरत है.चाणक्य ने बताया है कि जिस महिला की कनिष्ट वाली ऊँगली उसके साथ वाली ऊँगली के ऊपर रहती है।

तो ऐसी महिलायें अपने आप को समय के साथ में बदलने में कुछ भी नहीं सोचती हैं और इन के मन में जो कुछ आता है वह कर डालती हैं.जिस महिला को बात बात पर गुस्सा आ जाता है।ऐसी महिला पर विश्वास नहीं किया जा सकता है.

वहीँ जिस महिला के पैर नीचे की तरफ उठा रहता है,ऐसी महिला पर भी विश्वास नहीं किया जा सकता है.वहीँ जिस महिला का पेट मटके की तरह से होता है।इन पर भी विश्वास नहीं किया जा सकता है और जिन महिलाओं के कान में बाल होते हैं.यह भी अपने पति के लिए अशुभ मानी जाती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *