Insurance Policy मैं तभी लूँगा अगर तुम पूरी रात मेरे साथ रहो ,ये सुनकर महिला एजेंट ने कहा..

सोनाली गुप्ता ( बदला हुआ नाम ) प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक प्राइवेट इन्सुरेन्स कम्पनी में पालिसी एजेंट है.सोनाली ने अपनी असली पहचान ना उजागर होने की शर्त पर बताया कि महिलाओ के लिए मार्केटिंग या ऐसा जॉब जिसमे टारगेट हो करना बहुत मुश्किल हो गया है.उसने कहा कि उसके साथ एक बार कस्टमर ने ऐसी डिमांड की जिसे सुनकर वो समझ नही पाई वो क्या करे.

सोनाली का कहना है एक बार वो INSURANCE POLICY बेचने के लिए एक डॉक्टर के पास गयी. डॉक्टर ने जल्द ही अपनी प्रैक्टिस शुरू की थी मैं क्लिनिक में गयी वो बताने लगा अभी उसने जस्ट स्टार्ट किया है.

इस बीच वो बोला चलिए आप कोई अच्छी पालिसी बताये ये सुनकर मैं उसे बताने लगी , सुनते सुनते वो अपनी बॉस चेयर छोड़ के मेरे बगल वाली चेयर में बैठ गया और अपना हाथ टच करने लगा वो मेरा रुख जानना चाह रहा था और मैंने उसे फील कराया मुझे ये अच्छा नही लग रहा है.

मैंने पालिसी का बताने के बाद कहाकि डॉक्टर साहब आप बताये कौन सी पालिसी आपको दू , इस पर उसने कहाकि मुझे पालिसी इसलिय पसंद है क्युकी आप इसे सेल कर रही हो ,अगर आप मेरे साथ रात स्पेंट करे मैं पालिसी आपकी ले लूँगा.

ये सुनकर मैं चौक गयी , मेरे ऊपर टारगेट पूरा करने का दवाब था.मैंने मना कर दिया इस पर डॉक्टर ने कहा की मैं पुरे बीस लाख की पालिसी लेने को रेड्डी हूँ मैं जानता हूँ आपका टारगेट है और आप उसे पूरा करने में स्ट्रगल करती हो.

मैं सोच ही रही थी कि उसने अपना एड्रेस दे दिया . मैं पुरे दिन कशमकश में रही – मैं क्या करू ? आखिर में मैंने ऑफर ठुकराने का मन बना लिया. डॉक्टर ने रात आठ बजे फ़ोन किया मैंने उसे कहाकि मैं नही आ रही हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.