बचपन में मां चल बसीं, पढ़ाई छूटी, बेटे की मौ’त ने तोड़ा, आज हजारों घरों की तकदीर संवार रहीं है रूमा

किसी ने खूब लिखा है,’अगर खैरात में मिलती कामयाबी तो हर शख्स कामयाब होता, फिर कदर न होती किसी हुनर की और न कोई शख्स लाजवाब होता.’आज हम भी आपको कामयाबी की लाजवाब सच्ची कहानी के बारे में बता रहे हैं.ये कहानी राजस्थान के जोधपुर में रहने वाली रूमा देवी की है.यह नाम आज राजस्थान ही नहीं बल्कि विदेश में बड़े आदर

से लिया जा रहा है. रूमा खुद जिंदगी में संघर्ष की एक मिसाल हैं, पर कहते है मंजिल उनको मिलती जो खुद के लिए नहीं दूसरो की राहें तलाश करते है.रूमा देवी आज 75 गांव में रहने वाली 40 हजार महिलाओं को आत्मनिर्भर बना चुकी हैं.

उन्होंने सांस्कृतिक विरासत के जरिए बाड़मेर और राजस्थान कि तमाम महिलाओ को रोजगार उपलब्ध कराया है. उनकी उपलब्धि अमेरिका तक जा पहुंची है. उन्हें अमेरिका में सफोक काउंटी एग्जीक्यूटिव के कार्यक्रम में सम्मानित भी किया गया है.

रूमा देवी राजस्थान की कला और उनकी पहचान को अब देश और विदेश तक पहचान दिला चुकी है. कभी ये सफर उन्होंने खुद शुरू किया था लेकिन आज उनके करवां में हजारों महिलाएं साथ हैं. रोजगार महिलाओं के लिए कितना जरूरी होता है और उससे जीवन यापन में कितनी मदद मिलती है, ये बात वो देश भर में घूम कर महिलाओ को समझा चुकी हैं.

बचपन में मां को खोया, छूटी पढ़ाई…
रूमा देवी कहती है कि जीवन बेहद कठिनाइयों में बीता… जब वो पांच साल की थीं तब उनकी मां का निध’न हो गया था. घर के हालत सही नहीं थे तो पढ़ाई भी जल्दी ही छूट गई. वो कहती हैं एक समय था जब वो लगभग दस किलोमीटर दूर से पानी भरकर बैलगाड़ी से घर तक लाती थीं.

बेटे की मौ’त के बाद जो ठाना कर के दिखाया
रूमा देवी ने अपने संघर्ष को ही अपनी इच्छा शक्ति के रूप तब्दील किया. बचपन से पैसे और जरूत के बीच उनका संघर्ष चलता रहा. ऐसे में एक घटना ने रूमा के जीवन को बदल दिया. पैसे के अभाव में इलाज नहीं मिलने पर डेढ़ साल के बेटे को खोने के गम ने रूमा देवी को तोड़ दिया था.

वहीं इसी घटना के बाद उन्हें कुछ बड़ा करने की प्ररेणा मिली. रूमा ने उसी समय ठान लिया जो उनके साथ हुआ है वो किसी और के साथ नहीं होने देगीं. पैसे के अभाव में आम जन कोई दिक्कत नहीं उठाएगा.

हर महिला अपने आप में स्वाहलंबी होगी. उसके पास रोजगार होगा. रूमा देवी ने अपने हुनर को आजमाने की सोची, हस्तशिल्प के काम को शुरू किया और न सिर्फ महिलाओं को जोड़ा बल्कि अपने काम को विदेशों तक पहुंचाकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.