शाहरुख के भाई ने पीड़िता परिवार से पुलिस में खबर न करने की लगाई थी गुहार , परिजन बोले यही भूल..

झारखंड के दुमका में 12वीं कक्षा की अंकिता सिंह को जिंदा जलाने के मामले की पूरी कहानी सामने आई। हत्यारोपी शाहरुख ने घटना से कुछ दिन पहले अंकिता के कमरे की खिड़की का शीशा तोड़ दिया था। अंकिता के परिवार के अनुसार शाहरुख के भाई सलमान ने माफी मांगी थी और उनसे घटना की रिपोर्ट न करने को कहा था।

शाहरुख ने 23 अगस्त को जब अंकिता सो रही थी तब उसके कमरे की खिड़की के बाहर से पेट्रोल डाला और आग लगा दी , अंकिता को 90 प्रतिशत जलने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था और पांच दिन बाद उसकी मौ/त हो गई।

शाहरुख के भाई सलमान अपने मामा के साथ अंकिता के घर उनकी ओर से माफी मांगने गया था। उन्होंने अंकिता के परिवार से पुलिस को मामले की रिपोर्ट न करने के लिए कहा और उन्हें आश्वासन दिया कि शाहरुख को शहर से बाहर भेज दिया जाएगा।

दोस्ती करने के लिए उकसाया
उसके चाचा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि अगर हमने शीशा तोड़ने के तुरंत बाद पुलिस को सूचना देते और कार्रवाई होती तो अंकिता पर फिर से हमला करने की हिम्मत नहीं होती। अंकिता ने पुलिस को अपना बयान दिया है। उन्होंने कहा कि आरोपी ने करीब 10 दिन पहले उसके मोबाइल पर फोन किया और उसे अपना दोस्त बनने के लिए उकसाया।

अंकिता ने पुलिस को बताया कि उसने सोमवार रात करीब 8 बजे फिर फोन किया और कहा कि अगर मैंने उससे बात नहीं की तो वह मुझे मा’र डालेगा। इसके बाद 23 अगस्त को जब मैं सो रही थी तो मुझे अपनी पीठ पर दर्द की अनुभूति हुई और मुझे कुछ जलने की गंध आ रही थी।

आंख खुली तो मैंने उसे भागते हुए देखा। वो दर्द से कराहने लगी और अपने पिता के कमरे में चला गया। मेरे माता-पिता ने आग बुझाई और अस्पताल ले गए लेकिन डॉक्टर उसे बचा नही पाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.